Saturday, January 24, 2015

श्रीश्री ने क्‍यों ठुकरा दिया पद्म विभूषण ?

'द इंडियन एक्‍सप्रेस' में पद्म विभूषण के लिए सामने आए संभावित नामों में एक नाम अध्‍यात्‍म गुरू श्री श्री रविशंकर का भी था। बाबा रामदेव ने 'द इंडियन एक्‍सप्रेस' की ख़बर के आधार पर सरकार को पत्र लिखकर पुरस्‍कार लेने से मना कर दिया। इसके पश्‍चात ही श्री श्री रविशंकर जी द्वारा पुरस्‍कार ठुकरा देने की ख़बर मिली। बाबा रामदेव को पद्म विभूषण देने को लेकर विरोधी स्‍वर उठ रहे थे। हो सकता है कि आने वाले समय में अधिक जोर भी पकड़ लेते।

हालांकि, दूसरी तरफ श्रीश्री रविशंकर को सम्‍मानित करने पर लोगों को अधिक एतराज न होता, क्‍योंकि श्रीश्री बाबा रामदेव की तरह राजनीति में खुलकर नहीं आए, वे पर्दे के पीछे से नरेंद्र मोदी को समर्थन करते रहे हैं, उनके संस्‍थान से जुड़े महेश गिरि पूर्वी दिल्ली से सांसद बने और हेमा मालिनी आगरा से।

यदि श्रीश्री पद्म विभूषण को स्‍वीकार करते तो भी मेरे मन में सवाल उठता और नहीं कर रहे हैं तो इस स्‍थिति में भी सवाल तो उठेगा क्‍योंकि उनके वेबसाइट पर उनको मिले सम्‍मानों की एक लम्‍बी फेहरिस्‍त है। यदि श्रीश्री उन तमाम सम्‍मान को स्‍वीकार कर सकते हैं, तो इस सम्‍मान को क्‍यों ? इसका जवाब अंत में देना चाहूंगा।

फिलहाल मैं लौटता हूं, उस स्‍थिति पर यदि वे सम्‍मान लेते तो ? अगर 'द इंडियन एक्‍सप्रेस' की ख़बर अनुसार श्रीश्री के साथ साथ उसी मंच पर पंजाब के मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्‍ठ नेता एलके आडवाणी को पद्म विभूषण से सम्‍मानित किया जाता तो मैं सबसे पहले सरकार से सवाल करता कि पुरस्‍कार का विवरण किस आधार पर किया जा रहा है। इसका मापदंड क्‍या है ? क्‍योंकि एक ही मंच पर एंटी वायरस और वायरस को एक ही पुरस्‍कार से किस तरह सम्‍मानित किया जा सकता है। सवाल तो उठता ? उठना भी चाहिए था।

भले अदालतों ने बाबरी मस्‍जिद गिराने के मामले में भारतीय जनता पार्टी के तमात सीनियर नेताओं को बरी कर दिया हो, लेकिन हजारों लोगों की लाशों के जिम्‍मेदार वे नेता हैं, जिन्‍होंने लोगों के भीतर नफरत का बीज बोया। मस्‍जिद को गिराने के लिए लोगों में आक्रोश पैदा किया। कितने भी सफेद कपड़े पहन लें, यह दाग हमेशा बने रहेंगे, क्‍योंकि एक राम मंदिर बनाने की जद में न जाने कितने पाकिस्‍तान, बंग्‍लादेश में बने मंदिर एक दिन में तुड़वा दिए। एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तान में केवल एक ही दिन में तीस मंदिर तोड़े गए। उस समय हुए दंगों में करीब दो हजार लोगों की जान गई। उसके लिए जिम्‍मेदार नेतृत्‍व करने वाले नेता हैं। प्रकाश सिंह बादल, पंजाब के मुख्‍यमंत्री, जिनकी सरकार के मंत्री एवं करीबी रिश्‍तेदार पर पंजाब में नशा फैलाने का आरोप है। पंजाब नशे की गर्त में है, यह बात किसी से छुपी नहीं, पंजाब का बच्‍चा बच्‍चा शिरोमणि अकाली दल भाजपा गठबंधन से बनी सरकार को जिम्‍मेदार ठहरा रहा है।

उपरोक्‍त तथ्‍यों को ध्‍यान में रखते हुए मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह को सम्‍मानित करना। एलके आडवाणी को सम्‍मानित करना। और दूसरी तरफ उसी मंच पर देश विदेश में प्रेम का सबक पढ़ा रहे एक अध्‍यात्‍म गुरू श्रीश्री को सम्‍मानित करना कहां तक सही होगा ?

अब मैं दूसरे सवाल की तरफ लौटता हूं। आखिर श्रीश्री ने पद्म विभूषण लेने से इंकार क्‍यों कर दिया? ऐसा नहीं कि उनको पुरस्‍कार प्रिय नहीं हैं यदि ऐसा होता तो उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर सैंकड़ों पुरस्‍कारों का बड़ा सा विवरण न होता। उनको पुरस्‍कार प्रिय हैं। मगर, इस समय उनका पद्म विभूषण लेना, उनकी गरिमा को चोट पहुंचाएगा, क्‍योंकि लोक सभा चुनावों में नरेंद्र मोदी और श्रीश्री की निकटता जग जाहिर है। श्रीश्री को 1986 में योग शिरोमणि का पुरस्‍कार भारतीय राष्‍ट्रपति की तरफ से मिला था। उसके बाद भी बहुत सारे देश विदेश से पुरस्‍कार मिले। उन्‍होंने बड़े से छोटे सभी पुरस्‍कार हंसकर स्‍वीकार किए। मगर, पद्म विभूषण को लेकर उनका इंकार करना बताता है कि देश की राजनीतिक पार्टियों ने पुरस्‍कार की गरिमा किस कदर गिरा दी है। यदि आप अटल बिहारी वाजपेयी, मदन मोहन मालवीय को भारत रत्‍न देते हैं, और श्रीश्री को केवल पद्म विभूषण देकर खुश करने का प्रयास करते हैं तो कहीं न कहीं सरकार उनके कद को कम आंक रही है, क्‍योंकि श्रीश्री अध्‍यात्‍म जगत में बेहद सम्‍मानजनक शख्‍सियत हैं। उनको विदेशों से आए दिन सम्‍मान के लिए आमंत्रित किया जाता है। उनको भारत रत्‍न कहा जा सकता है क्‍योंकि उनकी आभा आज विश्‍व के कई देशों को सम्‍मोहित कर रही है।

अंत में...
यदि राजनीतिक पार्टियां यूं ही सम्‍मानजनक पुरस्‍कारों की गरिमा को ठेस पहुंचाती रहेंगी तो शायद इन पुरस्‍कारों का अधिक मोल न रह जाएगा। यह केवल खुशामद एवं समर्थन का रिटर्न गिफ्ट बनकर रह जाएंगे।

4 comments:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (26-01-2015) को "गणतन्त्र पर्व" (चर्चा-1870) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    गणतन्त्रदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये।

    ReplyDelete
  3. यह एक कटु सत्य ही है कि ज़्यादातर सम्मान आज केवल खुशामद एवं समर्थन का रिटर्न गिफ्ट बनकर ही रह गए है . काश, ऐसा हो कि कोई भी पुरस्कार उसके सही हकदार को ही मिले!

    ReplyDelete
  4. सभी पुरस्कार आज विवादों के घेरे में रहें हैं कारण उन्हें देने वालों के पक्षपात पूर्ण निर्णय , न तो इनके देने का कोई तर्कसंगत फार्मूला है और न ही निर्णय की क्षमता ,कभी वोट बैंक बनाने के लिए दे दिए जाते हैं तो कभी अपनी पार्टी के लोगों को. जिन लोगों को मिलने चाहिए उन्हें मिलते ही नहीं और यदि कभी मिल भी गए तो इतने विलम्ब से कि , उनकी कोई सार्थकता नहीं रह जाती ,भारत रत्न को भी अब एक मजाक बना दिया गया है ,इसकी शुरुआत पिछली सरकारों ने की औए अब भी यह सिलसिला जारी है ,और यह रुकने वाला भी नहीं है

    ReplyDelete

अपने बहुमूल्य विचार रखने के लिए आपका धन्यवाद

Labels

Valentine Day अटल बिहार वाजपेयी अंधविश्‍वास अध्यात्म अन्‍ना हजारे अभिव्‍यक्‍ति अरविंद केजरीवाल अरुण जेटली अहमदाबाद आतंकवाद आप आबादी आम आदमी पार्टी आमिर खान आमिर ख़ान आरएसएस आर्ट ऑफ लीविंग आस्‍था इंटरनेट इंडिया इमोशनल अत्‍याचार इलेक्ट्रोनिक मीडिया इस्‍लाम ईसाई उबर कैब एआईबी रोस्‍ट एनडीटीवी इंडिया एबीपी न्‍यूज एमएसजी ओएक्‍सएल ओह माय गॉड कटरीना कैफ कंडोम करण जौहर कांग्रेस किरण बेदी किसान कृश्‍न चन्‍दर क्रिकेट गजेंद्र चौहान गधा गरीबी गोपाला गोपाला घर वापसी चार्ली हेब्‍दो चुनाव चेतन भगत जन लोकपाल बिल जन समस्या जनसंख्या जन्‍मदिवस जापान जीतन राम मांझी जेडीयू जैन ज्योतिष टीम इंडिया टेक्‍नीकल टेक्‍नोलॉजी टेलीविजन टैलिप्राम्प्टर डाक विभाग डिजिटल इंडिया डिजीटल लॉकर डेरा सच्चा सौदा डॉ. अब्दुल कलाम तालिबान तेज प्रताप यादव द​ सन दिल्‍ली विधान सभा दिल्‍ली विधान सभा चुनाव देव अफीमची दैनिक जागरण दैनिक भास्कर द्वारकी धर्म धर्म परिवर्तन धोखा नई दुनिया नत्थुराम गोडसे नमो मंदिर नया संस्‍करण नरेंद्र मोद नरेंद्र मोदी नववर्ष नीतीश कुमार नीलगाय नूतन वर्ष पंजाब केसरी पंजाब सरकार पद्म विभूषण पवन कल्‍याण पाकिस्तान पान की दुकान पीके पेशावर हमला पोल प्‍यार प्रतिमा प्रमाणु समझौता प्रशासन प्रेम फिल्‍म जगत बजट सत्र बजरंग दल बराक ओबामा बाबा रामदेव बाहुबली बिग बॉस बिहार बीजेपी बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ बॉलीवुड भगवान शिव भगवानपुर मंदिर भाजपा भारत भारतीय जनता पार्टी मनोरंजन ममता बनर्जी महात्मा गांधी महात्मा मंदिर महाराष्‍ट्र महेंद्र सिंह धोनी माता पिता मार्कंडेय काटजू मीडिया मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव मुसलमान मुस्लिम मोबाइल मोहन भागवत युवा पीढ़ी रविश कुमार राज बब्बर राजकुमार हिरानी राजनाथ सिंह राजनीति राजस्‍थान सरकार रामदेव राहुल गांधी रिश्‍ते रेप रेल बजट रेलवे मंत्री रोमन रोमन हिन्दी लघु कथा लीला सैमसन लोक वेदना लोकतंत्र वर्ष 2014 वर्ष 2015 वसुंधरा राजे वाहन विज्ञापन वित्‍त मंत्री विदेशी विराट कोहली विवाह विश्‍व वीआईपी कल्‍चर वैंकेटश वैलेंटाइन डे वॉट्सएप व्यंग शरद पावर शरद यादव शार्ली एब्‍दे शिवसेना शुभ अशुभ शेनाज ट्रेजरीवाला श्रीश्री श्रीश्री रविशंकर सकारात्‍मक रविवार संत गुरमीत राम रहीम सिंह सफलता समाजवाद समाजवादी पार्टी सरकार सरदार पटेल सलमान खान साक्षी महाराज सिख सिख समुदाय सुकन्‍या समृद्धि खाता सुंदरता सुरेश प्रभु सोनिया गांधी सोशल मीडिया स्वदेशी हास्‍य व्‍यंग हिंदी कोट्स हिंदु हिंदू हिंदू महासभा हिन्दी हिन्‍दू संगठन हेलमेट हैकर हॉलीवुड